Warning: "continue" targeting switch is equivalent to "break". Did you mean to use "continue 2"? in C:\inetpub\wwwroot\wordpress\wp-content\plugins\siteorigin-panels\inc\styles-admin.php on line 392
October 2020 – Page 3 – aNUkriti

एक मुसाफिर

सबको राह दिखाता मुसाफिर आज फिर अकेला क्यों खड़ा है क्या अड़चन है जो मन में दबाए रखा है गुजर जाते हैं दिन सुने जागती राते दिमाग में हजारों खयाल है मंडराते पर वह मुसाफिर अपनी राह पर बड़ा चला जाता है खुशियां दुख भला बुरा सब कुछ पता है साथ देते सब का यह दिन दुनिया से लड़ा है फिर भी यह मुसाफिर दुख दर्द से भरा है खुशियां इसकी किस्मत में नहीं ऐसा सबको लगता है लोगों को दुख देना इसकी फितरत में नहीं फिर भी हर कोई इसके लिए बदलता है इसीलिए सड़क को जानते हुए भी वह भटका पड़ा है सबको राह दिखाता मुसाफिर फिर आज क्यों अकेला खड़ा है फिर आज एक नई कशमकश में गिरा है बेखौफ होकर दुनिया की दलीलों से तो यह भी लड़ा है फिर भी वह मुसाफिर आज अकेला खड़ा है क्या अड़चन है जो मन में दबाए पड़ा है     यामिनी

Read more